राजस्थान से शुरू हुई अफवाह राजधानी दिल्ली तक पहुंची

*राजस्थान से शुरू हुई अफवाह राजधानी दिल्ली तक पहुंची*
===================
*इस खबर काे केवल अफवाह समझें* लेखक का उद्देश्य केवल लाेगाें काे जागरूक करना है….
====================
@bhagchand84 ✍✍

@NM News

हम जिस डिजिटल युग में जी रहे हैं आज भी एेसे लाेग हैं जाे अफवाह काे सच साबित करने में लग जाते हैं | मुझे समझ नहीं आता कि किसी महिला के बाल अपने आप कैसे कट सकते हैं? जी हां आप जाे पढ़ रहे हैं आजकल महिलाें के बाल अपने आप कटने की अफवाह तेजी से फैल रही है | *जानकारी से पहले मैं आपकाे बता दूं कि इसमें जरा भी सच्चाई नहीं है केवल आैर केवल अफवाह है |*

दरअसल महिलाें के बाल अपने आप कटने की अफवाह सबसे पहले राजस्थान के बीकानेर जिले की नाेखा तहसील से फैलना शुरू हुई जाे लगभग पूरे उत्तर भारत में फैल चुकी है | वैसे इसमें काेई दाे राय नहीं है कि हमारा देश गणेश जी की मूर्ती काे 1995 में दूध पिला चुका है जब तब कि आज जैसा सूचना पहुंचाने का माध्यम साेशल मिडिया नहीं था | जहां तक मेरी जानकारी है 1997 से 2000 तक हम ही नहीं पूरा विश्व Y2K यानि जब सन 2000 में प्रवेश करेंगें ताे कम्पयूटर खत्म हाे जायेगा, मिशाईल अपने आप चल जायेगी, अस्पताल बंद हाे जायेंगें रेल रूक जायेगी इत्यादि की अफवाह से गुजर चुका है | इसके बाद सन 2001 में दिल्ली में monkey man वाली खबर ने भी लाेगाें काे खूब परेशान किया जबकि एेसा कुछ भी नहीं हुआ था | *अब हम महिलाआें के बाल काटवा रहे हैं……..*

Y2K (यानि जब सन 2000 आयेगा ताे कम्पयूटर 000 काे नहीं पढ़ पायेगा) की अफवाह देश ही नहीं पूरी दुनिया में आग की तरह फैली | बड़े बड़े देश अमरीका आैर लंदन ने लाखाें कराेड़ रूपया Y2K से निपटने के लिये बजट आंवटित कर दिया | भारत जैसे गरीब देश में भी 700 कराेड़ का बजट Y2K से निपटने के लिये तैयार हुआ | यही नहीं उस समय की सरकार ने 1999 में सभी मंत्रालयाें काे निर्देश दिया कि वे अपने बजट का 3% Y2K से निपटने को लिये खर्च कर सकते हैं |बाद में जब सन 2000 आया ताे ये खबर अपने आप गायब हाे गई | जिस समय दुनिया Y2K में परेशान नजर आ रही थी कुछ रूस जैसे देश इस खबर पर हंस रहे थे आैर एक नया पैसा इस अफवाह के लिये खर्च नहीं किया | अब बताआे भारत जैसे गरीब देश का 700 कराेड़ मात्र अफवाह पर खर्च हाे गया ……. *सन 2008 में एक विदेशी पत्रकार ने इसकी खाेज शुरू की ताे पता चला कि 1997 में कनाड़ा के एक अखबार में यह खबर (Y2K) छाेटी सी छपी थी जिसमें एक कम्प्यूटर ठेकेदार या इंजिनीयर ने यह आंशंका जाहिर की थी कि सन 2000 आने पर कुछ पुराने कम्प्यूटर अपने आप काे अपडेट नहीं कर पायेंगें | बस यहीं से शुरू हुआ अफवाह फैलने का काम आैर पूरे विश्व काे परेशान कर दिया |*

असल में यह एक प्राेपगेंडा हाेता है जिससे कई तरह कि दुकान चल पड़ती है | यदि मुझे ठीक से याद आ रहा है ताे दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश में एक बार यह भी अफवाह फैली थी कि हरे रंग की चूडिंयां पहनने से पति काे अपार धन मिलेगा आैर राताें रात सारी दुकानाें की हरे रंग की चूडिंयां बिक गई | बाद में पता चला कि यह मात्र अफवाह इसलिये फैलाई गई थी दुकानदाराें के पास हरे रंग की चूडिंयाें की बिक्री नहीं हाे रही था |

राजस्था, हरियाणा, झारखंड व दिल्ली के बाद चोटी काटने की अफवाह ने अब यूपी में भी रंग दिखाना शुरू कर दिया है। ताजा जानकारी के अनुसार *आगरा में एक महिला काे चोटी काटने वाली भूत समझकर पीट-पीट कर हत्या कर दी गई।* अब इस मामले को गंभीरता से लेते हुए शासन ने सभी पुलिस अधीक्षकों को अफवाहों पर लगाम लगाने के निर्देश दिए हैं।
अफवाहों की रोकथाम और लोगों को जागरूक करने के लिए पुलिस कप्तानों को निर्देश दिए गए हैं।
जिन जिलों से ऐसी घटना की खबरें आई हैं वहां के पुलिस अधिकारियों से कहा गया है कि जो घटना हुई उसका खुलासा करें और सच सामने लाएं। जिससे लोगों में खौफ दूर किया जा सके। पुलिस अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि वह रात में गश्त कर अराजक तत्वों पर कार्रवाई करें।
बता दें कि मथुरा, आगरा, गाजियाबाद, दिल्ली, गुरुग्राम व फरीदाबाद में हुईं इन घटनाओं से महिलाएं खौफजदा हैं। मंगलवार रात व बुधवार को भी पांच किशोरियों समेत 28 महिलाओं की चोटी कटने की घटना सामने आ चुकी है।

*नाेट- अफावाहाें पर ध्यान न देवें आैर सभी काे जागरूक बनाने का प्रयास करें*

Article written by

Please comment with your real name using good manners.

Leave a Reply

shopify site analytics