हाय रे आजादी तूं इतनी भी क्याें मिली कि सब मांगे आजादी

========================== *भागचन्द सामाेता की ✍🏻

2014 का लाेकसभा चुनाव मुझे बार-बार याद आता है जब कई साल बाद केन्द्र में पूर्ण बहुमत की सरकार बनी | राजनीति में थाेड़ी बहुत उठा-पटक चलती रहती है लेकिन हद ताे तब हाे जाती है जब राजनीति देश हित में न हाेकर व्यक्तिगत हाे जाती है | अभी हाल में ही हुये 5 राज्याें के विधान सभा चुनाव में ताे हद हाे गई जब मुद्दाें से हटकर गधाे पर बात पहुंच गई | हांलांकि जनता बड़े ध्यान से देखती है आैर जब नतीजाें का समय आता है ताे गधाें का जबाव घाेड़ाें से दिया जाता है | फिर हालत वही हाेती है जाे किसी बारात में बिना दुल्हन के दुल्हा लाैटने पर हाेती है | भारत की राजनीति में वर्तमान दाैर व्यक्तिगत राजनीति की आैर इशारा करती है | इसमें दाे राय नहीं है कि काेई भी मां अपने बेटे काे सफल हाेता देखना चाहती है | लेकिन इसके लिये दिशा का ध्यान रखना जरूरी है | आज देश की राजनीति व्यक्तिगत लगने लगी है | किसी देश के राजनेता देश हित में राजनीती करें ताे वहां की जनता के लिये अच्छी बात है लेकिन जब राजनेता स्वार्थ व व्यक्तिगत लाभ के लिये राजनीति करने लगें ताे देश के लिये ये बहुत ही खतरनाक संकेत है जाे आज भारत में दिखाई दे रहा है |

वैसे इसमें इन राजनेताआें की काेई गलती नहीं है क्याें कि जिन लाेगाें ने देश काे आजाद हाेने से 2014 तक एकछत्र राज किया हाे, अपने हिसाब से इतिहास सैट किया हाे उनकाे आज अपनी बात मनवाने के लिये किसान, गरीब की समस्या पर सड़क पर उतरना पड़ रहा हाे ताे इससे बड़ी समस्या उनके लिये आैर काेई नहीं हाे सकती है | किसी काे सेना के जवानाें काे OROP दिलवाने के लिये अस्पताल के चक्कर काटने पड़ रहे हाें ताे काेई सेना द्वारा किये गये सर्जिकल स्ट्राईक के सबूत मांगने पर मजबूर हाे | *ये सब तब ज्यादा मजेदार लगता है जब वाे लाेग गरीब, किसान तथा सेना की समस्याआें पर धरना देते हाें जिन्हाेने इन समस्याें का 60 साल में काेई समाधान नहीं निकाला हाे |* मेरे हिसाब से अब तक देश में गरीबी हाेनी ही नहीं चाहिये थी क्याें कि जाे लाेग आज गरीबाेें की बात कर रहे हैं उनसे मेरा एक ही सवाल है कि देश काे आजाद हुये 70 साल हाे गये आैर लगभग इतने ही सालाें तक इन लाेगाें का देश पर एकछत्र राज रहा है ताे फिर गरीबी दूर करने के लिये आैर कितना समय चाहिये ? क्याें नहीं इतने सालाें तक इन समस्याआें का समाधान निकाला गया? उत्तर किसी के पास नहीं है | ताे इससे यह साबित हाे जाता है कि गरीब की बात केवल वाेट के लिये करते रहे जिसका नतीजा सबके सामने है | हाे सकता है मेरा लेख पढ़कर कुछ लाेग मेरी पृष्ठभूमि राजनैतिक समझने लगें लेकिन मेरा राजनीति से दूर-दूर तक काेई लेना देना नहीं है |

*आज काेई भी राजनैतिक दल नीति, नीयत आैर निर्णय पर बात करने के लिये तैयार नहीं है | जबकि नीति, नीयत आैर निर्णय तीन एेसी चीजें है जाे सफल राष्ट्र के विकास आैर प्रगति के लिये जरूरी हाेते हैैं |* उल्ट हमारे ज्यादातर नेता किसी की माैत पर राजनीति करना पसंद करते हैं | मैं धन्यवाद देता हूं जिनकी वजह से 70 साल बाद आज सेना की शहादत पर चर्चा हाेने लगी है आैर सैल्यट करता हूं उन मिडिया हाऊस काे जिन्हाेंने सेना की शहादत पर राजनेताआें काे लपेटना शुरू किया है | लेकिन दुख की बात यह है कि राजनेता जस के तस हैं वाे ताे कवल गर्म तवे का इन्तजार करते हैं आैर जैसे ही माैका मिलता है अपनी राेटी सेक लेते हैं | क्या हमें उस सेना से सवाल करने का हक है जाे निस्वार्थ भाव से देश की रक्षा करती है? आैर समय समय पर बलिदान भी देती है जिसकी बदाैलत हम चिल्ला-चिल्ला कर अभिव्यक्ति की आजादी मांगते हैं |

वर्तमान सरकार देश काे प्रगति पर ले जाने के भरसक प्रयास कर रही है लेकिन कुछ लाेगाें काे यह रास नहीं आ रहा है | देश का प्रगति की आैर बढ़ने का बड़ा कारण यह भी है कि देश की जनता जागरूक हुई है | फिर भी कुछ नेता किसानाें काे आलू की फैक्ट्री खाेलने का दावा कर रहे हैं | माेदी सरकार देश काे आगे बढ़ाने के लिये हर नीति पर काम कर रही है यही नहीं माेदी ने कहा है कि यदि काेई पुरानी नीति अच्छी है ताे उसकाे भी आगे बढ़ायेंगें लेकिन दूसरी पार्टियां माेदी की नेक नीयत काे पचा नहीं पा रही हैं | इस बात का अंदाज इसी से लगाया जा सकता है कि 2014 से अभी तक सरकार पर भ्रष्टाचार का काेई दाग नहीं लगा है | सरकार ने भ्रष्टतंत्र व लालफीताशाही काे बदलने के लिये कमर कस ली है |

यह सरकार जनकल्याणकारी व देश हित याेजनाआें पर काम कर रही है लेकिन जिस देश में भ्रष्टाचार एक अभिन्न अंग बन चुका हाे उसकाे जड़ से निकालना काेई आम बात नहीं है हांलांकि सरकार इस मुद्दे पर भी कटिबद्ध दिख रही है | यूपीअ सरकार में पिछले दस सालाें में भ्रष्टाचार व घाेटालाें का रिकार्ड टूट गया था लेकिन अभी तक पिछले तीन साल में एेसा काेई गंभीर मामला सामने नहीं आया है | सरकार बनने से लेकर अबतक माेदी काे पूरा ध्यान सुशासन, पारदर्शी व भ्रष्टाचार मुक्त तंत्र बनाने पर रहा है | चाहे विपक्ष माेदी सरकार की आलाेचना करे लेकिन जब सवाल माेदी की नियत पर आता है ताे विपक्ष के पास काेई जबाव नहीं हाेता है | कुछ प्राेपगड़ें माेदी काे नीचा दिखाने के लिये मनगढ़त तरीके से बनाये जा रहे हैं | वाे ही राजनैतिक पार्टी OROP पर सवाल उठा रही हैं जिन्हाेने अपनी सरकार रहते 70% पेंशन से घटाकर 50% कर दिया था तथा जिन्हाेने पिछले 40 साल से OROP पर काेई कदम नहीं उठाया | जब माेदी सरकार मे इस मसले पर कदम आगे बढाया ताे वही पार्टी माेदी की नीयत पर सवाल उठाने लगी | दरअसल इन पार्टियाें काे अब महसूस हाेने लगा है कि अपनी राजनातिक जमीन तलाशने के लिये कुछ मुद्दाें पर हाे हल्ला करना जरूरी है | काेई JNU में आजादी मांग रहा है काेई DU में आजादी मांग रहा है जबकि सच्चाई यह है कि आजादी है तभी यह सब हाे रहा है |

वैसे आज जनता सबकुछ जानती है | उत्तर प्रदेश के चुनाव ने यह भी साफ कर दिया है कि अब जातिगत व धर्म पर आधारित राजनीति नहीं चलेगी | सच बात आैर झूठ में बहुत फर्क हाेताे है आैर आज का वाेटर यह बात भलीभांती जानने लगा है | आज हर व्यक्ती अपनी गलती काे छुपाने के लिये………… *भागचन्द सामाेता 9166035636* अभिव्यक्ति की आजादी व राष्ट्रभक्ति जैसे मुद्धाें काे हथियार की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं | मैं कहता हूं कि मेरी आजादी पर ताे आजतक किसी ने प्रहार नहीं किया ना ही मुझे कभी एेसा लगता है ताे फिर ये सवाल कहां से आया है … अचानक कहां से अवार्ड वापसी जैसी गैंग सक्रिय हाे जाती है …..जबकि उरी व पठान काेट हमले पर ये गैंग एक शब्द तक नहीं बाेल पाती है…. मेरा इस गैंग काे नीचा दिखाने का काेई उद्देश्य नहीं है बल्कि मेरा ताे यह सवाल है कि जब दादरी घटना पर अवार्ड वापस किये जा सकते हैं ताे उरी व पठानकाेट की घटना पर क्याें नहीं ….. यही कारण है कि मुझे इनकी नीयत में दाेहरा मापदण्ड दिखता है | जब दादरी में एक घटना हाेती है ताे बिना प्रमाणिकता के एक गैंग अवार्ड वापस करने आ जाती है जबकि सेना सर्जिकल स्ट्राईक करती है ताे सबूत मांगने लगते है | *इसलिये मैं कहता हूं कि हाय रे आजादी तूं इतनी भी क्याें मिली कि सब अलग-अलग आजादी मांगने लगे*

✍🏻भागचन्द सामाेता✍🏻
9166035636

Article written by

Please comment with your real name using good manners.

Leave a Reply

shopify site analytics